MRI Full Form in Hindi | MRI का उपयोग क्या है

MRI Full Form in Hindi, MRI Full Form, MRI ka Full Form, MRI ka पूरा नाम, MRI का मतलब, MRI का उपयोग, MRI scan फुल फॉर्म, MRI medical फुल फॉर्म, Full Form of MRI, ऐसे बहुत से और भी सवाल जो MRI से सम्बंधित है. जिसे हमने इस आर्टिकल में बताया है.

अगर आप इस आर्टिकल को ध्यान से पढ़े तो आपको MRI के बारे में अच्छी तरह से जानकारी हो जाएगी। और आपको MRI के बारे में और कहीं जानकरी के लिए नहीं जाना पड़ेगा.

MRI Full Form in Hindi

MRI Full Form

MRI मेडिकल के क्षेत्र में बहुत बड़ी भूमिका निभाता है और बहुत ही ज्यादा फायदा हुआ है.

हम जानेंगे की MRI का पूरा फॉर्म और उसेक साथ और भी मेडिकल में क्या क्या फायदे इस MRI से हुए और ये किस प्रकार शरीर का परीक्षण करता है. सभी सवालों के जवाब जानते है.

Full Form of MRI

MRI ka Full Form “Magnetic Resonance Imaging” होता है. ये शरीर के परीक्षण के लिए एक चुंबकीय टेक्नोलॉजी है.

M Magnetic
R Resonance
I Imaging

MRI से शरीर का परीक्षण कर ये पता लगाए जाता है की मरीज के शरीर में उपचार के प्रति किस प्रकार की प्रतिकिर्या हो रही है.

MRI Full Form

MRI का सिंपल फुल फॉर्म ‘Magnetic Resonance Imaging’ होता है ये आपको ऊपर की जानकारी में पता चल गया होगा।

Magnetic Resonance Imaging का हिंदी Full Form “चुंबकीय प्रतिध्वनि इमेजिंग” होता है.

Magnetic Resonance Imaging (MRI) चुंबकीय प्रतिध्वनि इमेजिंग

MRI क्या है?

MRI एक शारीरिक परीक्षण टेस्ट होता है जिसके माध्यम से शरीर के अंदरूनी हिस्सों अंगो की तस्वीर निकली जाती है ये रेडियो किरणों की सहायता से किया जाता ह. और कंप्यूटर पर इसका परीक्षण किया जाता है.

MRI एकदम सुरक्षित टेस्ट होता है क्योंकि इसमें कोई भी हानिकारक रेडिएशन जैसे चीजों का इस्तेमाल नहीं किया जाता है. इस टेस्ट में मैग्नेटिक फील्ड का उपयोग किया जाता है. और दूसरी जगह रेडिएशन का इस्तेमाल किया जा सकता है लेकिन वो हानिकारक होने के कारण उसका इस्तेमाल नहीं किया जाता है.

MRI का उपयोग

MRI का उपयोग हरदिन बढ़ता ही जा रहा है क्योंकि MRI की सहायता से किसी भी छोटी से छोटी बीमारी का पता लगाया जा सकता है. और बहुत ही फायदेमंद है.

MRI में शरीर के सभी हिस्सों को जांचा जा सकता लेकिन जिन भागो को जांचा जाता है. वो कुछ इस प्रकार है.

  • दिमाग और रीढ़ की हड्डी जिसे MRI के द्वारा जांचा जा सकता है.
  • स्तनों की जांच में भी MRI से की जाती है.
  • MRI से ह्रदय तथा रक्तवाहिकाओं की जाँच की जाती है.
  • अंदरूनी अंगो जैसे:- लिवर, पौरुष ग्रंथि और गर्भाशय इन सभी की जाँच MRI से किया जाता है.
  • हडियों और जोड़ो की जाँच के लिए भी MRI का इस्तेमाल होता है.

MRI से शरीर में और भी कई सारी जांचे होती है.

MRI स्कैन शुल्क

MRI स्कैन का शुल्क हॉस्पिटल प्राइवेट और सरकारी दोनों में अलग अलग होता है और सरकारी हॉस्पिटल में प्राइवेट हॉस्पिटल के बदले काम खर्च में हो जाता है.

ये उस पर देपेंद करता है आप किस हॉस्पिटल में इस टेस्ट को करवाते है. सरकारी हॉस्पिटल में 1500 से लेकर 3000 रुपए तक इस टेस्ट का शुल्क होता है. (1)

यदि आप प्राइवेट हॉस्पिटल में MRI टेस्ट को करवाते है तो 4000 से 5000 तक इस टेस्ट का खर्च आपको पद जायेगा।

MRI टेस्ट कितनी देर में हो जाता हैं

MRI टेस्ट का टाइम उस पर निर्भर करता है. की MRI से शरीर का कोनसा भाग स्कैन करना है और कितनी तस्वीरें लेनी है. लगभग इसका टाईम 15 to 90 minutes का लग जाता है और शरीर के छोटे से बड़ा भाग तक स्कैन हो जाता है.

MRI स्कैन से पहले की तैयारियां

डॉक्टर सबसे पहले मरीज को गौण पहनने  को बोल सकता है. क्योंकि इस टेस्ट में मैगनेट के इस्तेमाल होने के कारण किसी प्रकार की धातु शरीर पे नहीं होनी चाहिए।

इसमें धातु के आभूषण गहने, और सभी वस्तुओ को अपने शरीर से दूर करने को बोलेगा। जिससे मशीन के अंदर हस्तक्षेप न हो और स्कैन आसानी से हो पाए.

MRI स्कैन करने से पहले इन सभी बातो का निम्न प्रकार से ध्यान रखना चाहिए।

  • MRI स्कैन से पहले सभी जानकारियां डॉक्टर को देनी अनिवार्य होती है और आपको देनी चाहिए। यदि आपने अपने शरीर के किसी भी भाग में कोई चीज डलवाई है. तो आपको यह डॉक्टर को बता देनी चाहिए क्योंकि यदि आपके शरीर में कोई धातु हो तो वो मशीन के स्कैन में हस्तक्षेप पैदा करेगी।
  • यदि आप कोई दवाई को खा रहे है तो आपको ये भी डॉक्टर को बता देना चाहिए।
  • MRI मशीन धातु को अपनी तरफ आकर्षित करती है इसलिए आप कोई भी धातु की चीज को MRI स्कैन के कमरे में ना लेजाएं.

MRI स्कैन से पहले इन सभी चीजों को साथ में लणा लेजाए।

  • घड़ी
  • ज्वेलरी जैसी नेकलेस या झुमके
  • पियर्सिंग
  • नकली दांत क्योंकि नकली दांतो में धातु का इस्तेमाल होता है.
  • सुनने की मशीन
  • विग में भी धातु के टुकड़े होते हैं

MRI के नुकसान

MRI मशीन वैसे तो एकदम सुरक्षित होती है लेकिन ये किसी के लिए जानलेवा भी साबित हो सकती है. वो कैसे तो जानते है.

MRI स्कैन के लिए सबसे पहले ये चेक किया जाता है मरीज के पास कोई भी धातु की वस्तु न हो. लेकिन अगर ऐसे गलती हो जाये तो ये मशीन आपके लिए बहुत ही जानलेवा साबित हो सकती है.

MRI स्कैन मशीन धातु की चीजों को बहुत ही तीव्र गति से अपनी और खींचती है.और इसमें मरीज के पास धातु की वस्तु होने पर उसे गहरी छोटे लग सकती है और इससे मरीज की मोत भी हो सकती है.

MRI के अन्य फुल फॉर्म्स कोनसे है?

MRI के अन्य फुल फॉर्म जो अलग अलग फील्ड में अलग अलग हो सकते है.

MRI Full Form in Hospitals

हॉस्पिटल में MRI को “Manchester Royal Infirmary” से जाना जाता है.

MRI Full Form in Research & Development

अनुसंधान तथा विकास में MRI का फुल फॉर्म “Midwest Research Institute” होता है.

MRI Full Form in Religious Organization

धार्मिक आयोजन में MRI का Full Form “Maritime Rescue Institute” होता हैं।

आज आपने क्या सीखा

आज हमने MRI से सम्बंधित इस आर्टिकल में बहुत सी जानकारी दी है. जैसे :- MRI Full Form, MRI ka Full Form, MRI Full Form in Hindi, MRI का पूरा नाम, MRI का मतलब, MRI Full Form क्या है, MRI का अर्थ, MRI का शुल्क, MRI स्कैन क्या है, ऐसे बहुत से और भी सवाल जिनका जॉब हमने इस आर्टिकल में दिया हैं. (2)

अगर आपने इस आर्टिकल को पूरा ध्यान से पढ़ा होगा तो आपको अब तक MRI से सम्बंधित सभी जानकारिया मिल गयी होंगी लेकिन अभी कोई प्रश्न आपके पास हो तो आप हमसे कमेंट के माध्यम से पूछ सकते है.

इस जानकारी को आप अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करे. और इस आर्टिकल की राय आप हमें कमेंट बॉक्स में जरूर बताये।

ऐसी ही महत्वपूर्ण जानकारियों को पढ़ने के लिए हमारे ब्लॉग Hindimont पर विजिट करते रहे.

FAQ

MRI ka Full Form क्या होता है?

MRI का फुल फॉर्म “Magnetic Resonance Imaging” होता है

MRI टेस्ट कितनी देर में हो जाता हैं?

15 to 90 minutes का लग जाता है.

MRI स्कैन शुल्क कितना होता है?

1500 से लेकर 3000 रुपए तक MRI टेस्ट का शुल्क होता है.

Leave a Comment