CPR Full Form in Hindi | CPR क्या है और कैसे करते हैं

आज हम इस आर्टिकल में CPR Ka Full Form, CPR Full Form, CPR Ka Full Form in Hindi, CPR क्या है, CPR Ka मतलब, ऐसे बहुत से सवाल जो CPR से सम्बंधित है.

उन सभी सवालों का जवाब हमने इस आर्टिकल में दिया है. आप इस आर्टिकल को शुरू से अंत टैंक पढ़े आपको सभी सवालो के जवाब मिल जायेंगे।

CPR Full Form in Hindi

CPR Full Form

सीपीआर का फुल फॉर्म “Cardio-Pulmonary Resuscitation” होता है, इसे हिंदी में “हृत्फुफ्फुसीय पुनर्जीवन ” कहते है लेकिन इसका मतलब एक ही होता है.

C Cardio
P Pulmonary
R Resuscitation

CPR Full Form

ऊपर की जानकारी से अब तक आपको सीपीआर की फुल फॉर्म का पता चला होगा लेकिन इन शब्दों का मतलब जानते हैं, Cardio का मतलब “दिल” pulmonary का अर्थ ” फेफड़ों से संबंधित ” तथा resuscitation का अर्थ to revive होता हैं। जिसे पुनर्जीवित करना भी होता है.

सीपीआर (CPR) हृत्फुफ्फुसीय पुनर्जीवन

CPR में क्या किया जाता है

CPR दो तरीके से दिया जाता है.

  1. मुँह द्वारा साँस देना 
  2. छाती को दबाना

सीपीआर की सहायता से खून के बहाव और स्वसन क्रिया को जारी रखने का कार्य किया जाता है. यदि रक्त और स्वसन क्रिया बंद हो जाये तो व्यक्ति की मृत्यु हो जाती है इसलिए उसकी जान बचने के लिए ऐसे किया जाता है.

सीपीआर क्या है?

CPR एक ऐसा मेथड है जिसकी सहायता से यदि किसी व्यक्ति को साँस लेने में मुश्किल हो तो सीपीआर की सहायता से उससे साँस की समस्या को दूर कर सकते है इसके साथ यदि किसी को हार्ट अटेक आ जाये तो भी सीपीआर मेथड से कुछ समय के लिए बचाया जा सकता है. (1)

यदि किसी व्यक्ति को बिजली का झटका लग जाये या वो पानी में दुब जाये तो आप उसे आप सीपीआर देकर उसे आपके किसी नजदीकी अस्पताल में भर्ती करवाए। तांकि उसकी जान बच पाए.

CPR कैसे करते हैं

  • मरीज को सबसे पहले किसी समतल जगह पर लिटा दे और मरीज का सर ऊपर की तरफ रखे और उसके पास बैठे।
  • पहले मरीज का गाला चेक करे यदि उसमे कुछ अटका हो तो आप सबसे पहले उसे बहार निकले.
  • इसके बाद यदि मरीज की धड़कने बंद हो गयी है तो आप उसके छाती पर हाथो से दबाव बनाकर पंप करे और मरीज को साँस लेने में सहायता प्रदान करे.
  • छाती की पम्पिंग बहुत जल्दी से करनी होगी जिसमे आप 1 मिनट में 100 बार दबा सकते है. और ऐसे 1 से 2 इंच तक ही दबाये.
  • छाती को 25 से 30 बार दबाने के बाद उन्हें मुँह से साँस दे 100 बार दबाने में कम से कम 4 बार कृत्रिम साँस दे.

सीपीआर देने से मरीज के दिल की धड़कने चलने लग जाएगी जिससे मरीज की जान को बचाया जा सकता है. आप इन सभी प्रकिया को करते समय बिच बिच में कृत्रिम साँस भी देते रहे.

कृत्रिम साँस कैसे देते हैं

कृत्रिम साँस देने के लिए सबसे पहले मरीज को किसी ठोस समतल जगह पर लिटा दे और उसका मुँह ऊपर की तरफ हो इसके बाद अपने मुँह को उसके मुँह से जोड़कर नाक को दोनों उँगलियों से पकड़कर मुँह में साँस भरना होता है.

ये भरा गया साँस उनके फेफड़ो में जायेगा जिसे उनकी धड़कन वापस चलने लग जाएगी। जड़ साँस चलने लग जाये तब आपको कृत्रिम साँस बंद करना होता है.

CPR कब देना चाहिए

जानते है किन किन स्थितियों में सीपीआर की आवश्यकता पड़ती है.

1. हार्ट अटैक

जब किसी व्यक्ति को हार्ट अटैक तो उसकी दिल की रुकी धड़कनो को वापस से चलाने के लिए हम सीपीआर दे सकते है इससे हम उसे कृत्रिम साँस देंगे जिससे उसकी धड़कने चलने लगे और उसकी जान बचाई जा सके.

2. साँस की समस्याएँ

जब किसी व्यक्ति का साँस रुक जाये या उससे साँस लेने में तकलीफ हो तब हम सीपीआर दे सकते है.

3. पानी में डूबते व्यक्ति

जब कोई पानी में दुब जाये तो उसके स्वाँस नाली में पानी भर जाता है जिससे वो साँस नहीं ले सकता और हम उसे सीपीआर देकर पानी बहार निकल सकते है और उसकी जान बचा सकते हैं.

4. बेहोश होने पर

यदि कोई बेहोश हो जाये तो उसे होश में लाने के लिए भी सीपीआर दिया जाता है.

CPR के लाभ क्या है?

सीपीआर उस वक्त दिया जाता है जब मरीज की हालत गंभीर हो और पास में कोई हॉस्पिटल न हो और सीपीआर की मदद से उसकी जान को बचाया जा सकता है.

यदि किसी व्यक्ति के साथ कोई दुर्घटना हो जाये तो डॉक्टर के पास जाने में समय लग जायेगा लेकिन हम सीपीआर देकर अगर मरीज को डॉक्टर के पास ले जाते है तो वो बच सकता है जिससे उसका खून का फ्लो चलता रहेगा। और साँस भी सही से आता रहेगा।

CPR को हम एक इमरजेंसी इलाज की तरह देख सकते है. यदि आपके पास हॉस्पिटल उपलब्ध है तो आप मरीज को सबसे पहले हॉस्पिटल लेकर जाये।

आज आपने क्या सीखा

आज हमने इस आर्टिकल में CPR Full Form in Hindi, सीपीआर फुल फॉर्म, CPR Full Form, सीपीआर का मतलब, सीपीआर क्या है, सीपीआर कैसे देते है, इन सभी सवालों के साथ साथ और भी बहुत से जानकारियां सीपीआर से सम्बंधित हमने इस आर्टिकल में दी है जिन्हे आप पढ़ने के बाद समझ जायेंगे।

इस आर्टिकल को पूरा पढ़ने के बाद यदि आपके पास कोई प्रश्न  हो तो आप हमसे कमेंट के माध्यम से जरूर पूछे हम उसका जवाब देने की पूरी पूरी कोशिश करेंगे।

आपको हमारा आर्टिकल सीपीआर Full Form कैसे लगा कमेंट में अपना फीडबैक जरूर बताये। अगर पसंद आया तो आप ऐसे अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करे.

ऐसी ही और भी महत्वूर्ण जानकारिओं के लिए हमारे ब्लॉग Hindimont पर विजिट करते रहे.

FAQ

CPR Full Form in Hindi क्या होता है?

CPR Ka फुल फॉर्म “Cardio-Pulmonary Resuscitation” होता हैं।

सीपीआर में क्या किया जाता है?

1. मुँह द्वारा साँस देना 
2. छाती को दबाना

Leave a Comment